Thursday, February 12, 2009

Biodata (Hindi) : Harekrishna Meher / परिचय-पत्रिका : हरेकृष्ण मेहेर


परिचय-पत्रिका
- - - - - - - - - -

डॉ. हरेकृष्ण मेहेर
*
जन्म-दिनांक : ५ मई १९५६
जन्मस्थान : सिनापालि (ओड़िशा)

पिता : कवि नारायण भरसा मेहेर
माता : श्रीमती सुमती देवी
पत्‍नी : श्रीमती कुन्तला कुमारी मेहेर
मातृभाषा : ओड़िआ
राष्ट्रीयता : भारतीय
*

शिक्षा :

रेवेन्शा महाविद्यालय कटक में अध्ययन पूर्वक उत्कल विश्वविद्यालय से
बी.ए. संस्कृत आनर्स, प्रथम श्रेणी में प्रथम (१९७५) ;
बनारस हिन्दु विश्वविद्यालय से तीन उपाधियाँ * * एम्.ए. संस्कृत, स्वर्णपदक प्राप्त (१९७७),
पीएच्.डी. संस्कृत (१९८१), डिप्लोमा इन् जर्मन् (१९७९).

* विशेष विषय : भारतीय दर्शन


* बी.ए. संस्कृत आनर्स में सर्वोच्च स्थान अधिकार हेतु रेवेन्शा महाविद्यालय से जगन्नाथ मिश्र स्मारकी पुरस्कार प्राप्त । * एम्.ए. संस्कृत परीक्षा में सर्वोच्च स्थान प्राप्ति हेतु बनारस हिन्दु विश्वविद्यालय-स्वर्णपदक, श्रीकृष्णानन्द पाण्डेय सहारनपुर-स्वर्णपदक, काशीराज-पदक एवं पुरस्कार से सम्मानित ।

* अध्यापक, कवि, गवेषक, समालोचक, प्राबन्धिक, गीतिकार, स्वर-रचनाकार, सुवक्ता और सफल अनुवादक के रूप में परिचित ।

* ओड़िआ, हिन्दी, अंग्रेजी, संस्कृत एवं कोशली – पाँच भाषाओं में मौलिक लेखन तथा अनेक श्रेष्ठ काव्यकृतियों के छन्दोबद्ध अनुवाद ।

* राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की पत्रपत्रिकाओं में शोधलेख, प्रबन्ध और कविता आदि प्रकाशित ।
* अनेक मौलिक और अनूदित पुस्तकें प्रकाशित ।


* अन्तर्जाल पर अनेक पत्रिकाओं में तथा अपने वेब्‌साइट् में कई लेख प्रकाशित ।


* विश्वसंस्कृत-सम्मेलनों, राज्य-स्तरीय अनेक सम्मेलनों एवं संगोष्ठियों में शोधलेख परिवेषण तथा कवि-सम्मेलनों में सक्रिय योगदान ।

* संस्कृत के सरलीकरण और आधुनिकीकरण की दिशा में विशेष प्रयत्नशील ।

* आकाशवाणी-दूरदर्शन आदि में लेख, परिचर्चा और कविताएँ प्रसारित ।

* पितामह दिवंगत कवि मनोहर मेहेर पश्चिम ओड़िशा के “गणकवि” के रूप में परिचित । कवि-परम्परा से मौलिक सर्जनात्मक-प्रतिभासम्पन्न डॉ. मेहेर की भाषा-साहित्य एवं सङ्गीत कला में विशष अभिरुचि ।

* कई उपलक्ष्यों में स्वरचित संस्कृत-गीतियाँ एवं कोशली गीत एकल तथा
वृन्दगान के
रूप में परिवेषित ।

* हाथरस उत्तरप्रदेश की लोकप्रिय ‘संगीत’ पत्रिका में अपनी मौलिक नवीन छन्दोबद्ध संस्कृत गीतियों सहित स्वरचित स्वरलिपियाँ प्रकाशित । प्रसिद्ध संगीतकार पण्डित एच्. हरेन्द्र जोशी- रचित स्वरलिपियाँ भी वहाँ प्रकाशित । डॉ. मेहेर-कृत संस्कृत गीत “नववर्ष-गीतिका” की आडियो कैसेट् एवं वीडियो कैसेट् मध्यप्रदेश की रतलाम एवं जावरा आदि नगरियों में स्थानीय टी.वी. चैनलों पर प्रसारित ।

* कुछ विश्वविद्यालयों के प्रस्तुत शोध-ग्रन्थों में तथा अन्यत्र अनेक विद्वानों के शोधलेखों में डॉ. मेहेर संस्कृत कवि एवं मौलिक लेखक के रूप में संस्कृत गीतियों सहित चर्चित ।


प्रमुख साहित्यिक एवं सांस्कृतिक अनुष्ठानों द्वारा सम्मान प्राप्त :
= = = = = =

* सांस्कृतिक परिषद, पाटनागड़ से “गंगाधर सम्मान” (२००२).

* गंगाधर साहित्य परिषद, बरपालि से “गंगाधर सारस्वत सम्मान” (२००२).

* निखिलोत्कल संस्कृत कवि सम्मेलन, कटक से “जयकृष्ण मिश्र काव्य सम्मान” (२००३).
 

* राज्यस्तरीय पण्डित नीलमणि विद्यारत्न स्मृति संसद, भुबनेश्वर से “विद्यारत्न प्रतिभा सम्मान” (२००५).

* राज्यस्तरीय स्वभावकवि गंगाधर स्मृति समिति, बरपालि से
"गंगाधर सम्मान" - अशोक चन्दन स्मृति पुरस्कार (२००९).

* अकादेमी अफ्‌ बेङ्गली पोएट्रि, कोलकाता से
"आचार्य प्रफुल्ल चन्द्र राय स्मारक सम्मान" (२०१०).

* कवि गंगाधर मेहेर क्लब् बरपाली से
"हरिप्रिया-मुण्ड स्मारकी गंगाधर मेहेर सम्मान" (२०१०).

* सम्बलपुर-विश्वविद्यालय सम्बलपुर से
"डॉ.नीलमाधव-पाणिग्राही सम्मान" (२०१०) ['कोशली मेघदूत' पुस्तक के लिये].

* एवार्ड़् अफ् एप्रिसिएशन् (जयदेव उत्सव -२००८) – ओड़िशी एकाडेमी, लोधी मार्ग, नई दिल्ली

* वाचस्पति गणेश्वर रथ वेदान्तालङ्कार -सम्मान (२०१३) 
 (विश्वसंस्कृत-दिवस-समारोह, पण्डित सम्मिलनी) 
बालाजी मन्दिर सुरक्षा समिति, भवानीपाटना, ओड़िशा ।  

* विश्वसंस्कृत-दिवस-सम्मान (२०१३)
महाबीर सांस्कृतिक अनुष्ठान, भवानीपाटना, ओड़िशा । 
 = = = = = =


ओड़िशा के अनेक सुप्रतिष्ठित अनुष्ठानों द्वारा मानपत्र सहित   
संवर्धना एवं अभिनन्दन प्राप्त :
= = = = = =

* खरियार साहित्य समिति, राजखरियार (१९९८),
* गदाधर साहित्य संसद, कोमना (१९९८),
* सम्बलपुर विश्वविद्यालय, ज्योतिविहार (२०००),
* शिक्षाविकाश परिषद, कलाहाण्डि (२००३),
* कलाहाण्डि लेखक कला परिषद, भवानीपाटना (२००३),
*अभिराम स्मृति पाठागार ट्रष्ट, भवानीपाटना (२००६).

* उदन्ती महोत्सव, सिनापालि, नूआपड़ा (२०१२) 
* बनानी-कवि-सम्मिलनी, कलाहाण्डि-लेखक-कला-परिषद (२०१३)
- - - - - - - 

* १९८१ से ओड़िशा शिक्षा सेवा (ओ. ई. एस्.) में संस्कृत अध्यापक के रूप में योगदान । सरकारी पञ्चायत महाविद्यालय बरगड़, फकीरमोहन महाविद्यालय बालेश्वर एवं सरकारी स्वयंशासित महाविद्यालय भवानीपाटना में अध्यापना के उपरान्त सम्प्रति गंगाधर मेहेर स्वयंशासित महाविद्यालय, सम्बलपुर में स्नातकोत्तर संस्कृत विभाग के वरिष्ठ रीडर एवं विभागाध्यक्ष के रूप में कार्यरत ।


* डॉ. हरेकृष्ण मेहेर की प्रमुख साहित्यिक कृतियाँ *
प्रकाशित : (पुस्तक)
 = = = = = = =
 (१) पीएच्‌. डी. शोधग्रन्थ “Philosophical Reflections in the Naisadhacarita”.
(२) मातृगीतिकाञ्जलिः (मौलिक संस्कृत गीतिकाव्य) ।
(३) नैषध-महाकाव्ये धर्मशास्त्रीय-प्रतिफलनम् ।
(४) साहित्यदर्पण : अलंकार ।
(५) श्रीकृष्ण-जन्म ।
(६) श्रीरामरक्षा-स्तोत्र (शिवरक्षा-स्तोत्र सहित अनुवाद) ।
(७) शिवताण्डव-स्तोत्र (ओड़िआ अनुवाद) ।

(८) विष्णु-सहस्र-नाम (ओड़िआ अनुवाद) ।
(९) गायत्री-सहस्र-नाम (ओड़िआ अनुवाद) ।
(१०) मनोहर पद्यावली (संपादित) ।

(११) स्वभावकवि गङ्गाधर मेहेर-कृत ओड़िआ “तपस्विनी” काव्य का सम्पूर्ण हिन्दी अनुवाद ।
(१२) Tapasvini of Gangadhara Meher ('तपस्विनी' काव्य का सम्पूर्ण अंग्रेजी अनुवाद) ।
(१३) कोशली मेघदूत (कालिदास-कृत मेघदूत काव्य का सम्पूर्ण कोशली गीत रूपान्तर) ।
(१४) स्वभावकवि गङ्गाधर मेहेर-कृत ओड़िआ “तपस्विनी” काव्य का सम्पूर्ण संस्कृत अनुवाद ।

- - -

* भर्त्तृहरि-शतकत्रय (नीतिशतक, शृङ्गार-शतक एवं वैराग्य-शतक) के

   सम्पूर्ण छन्दोबद्ध ओड़िआ अनुवाद ।
* कविवर राधानाथ राय-कृत ओड़िआ कविता “बर्षा” का संस्कृत श्लोकानुवाद ।
* तपस्विनी-चतुर्थ सर्ग के अंग्रेजी एवं संस्कृत पद्यानुवाद ।
* श्रीहर्ष-कृत नैषधचरित- नवमसर्ग का ओड़िआ पद्यानुवाद ।
* महाकवि कालिदास-कृत रघुवंश-द्वितीय सर्ग का ओड़िआ पद्यानुवाद ।

* कुमारसम्भव के प्रथम, द्वितीय, पञ्चम, सप्तम एवं अष्टम सर्गों का ओड़िआ पद्यानुवाद ।
- - - - - - - - - -

अप्रकाशित (मौलिक):
 = = = = = = = = =
संस्कृत में : पुष्पाञ्जलि-विचित्रा, सारस्वतायनम्, सौन्दर्य-सन्दर्शनम्, सावित्रीनाटकम्, जीवनालेख्यम्, मौन-व्यञ्जना, उत्कलीय-सत्कला, सूक्ति-कस्तूरिका, मेहेरीय-छन्दोमाला ।
ओड़िआ में : आलोचनार पथे, भञ्जीय काव्यालोचना, भञ्ज-साहित्यरे जगन्नाथ तत्त्व, घेन नैषध पराये, ओड़िआ रीति-साहित्यरे दार्शनिक-चिन्तन, निबन्धायन, कबिताबली, शिखण्डीकाव्य ।
अंग्रेजी में : Poems of the Mortals, Glory.
हिन्दी में : हिन्दी-सारस्वती,  कुछ कविता-सुमन ।
कोशली में : कोशली गीतमाला ।

अप्रकाशित (अनुवाद) :
= = = = = = = = =
संस्कृत से ओड़िआ : श्रीमद्‍भगवद्‍गीता, कुमारसम्भव, ऋतुसंहार, मेघदूत, रघुवंश, गीतगोविन्द ।
संस्कृत से हिन्दी : मातृगीतिकाञ्जलि: ।

संस्कृत से अंग्रेजी : शिवताण्डव-स्तोत्र, गीतगोविन्द ।
ओड़िआ से हिन्दी : कवि गङ्गाधर मेहेर-प्रणीत ‘प्रणय-वल्लरी’, ‘अर्घ्यथाली’, ‘कीचकवध’ काव्य ।

ओड़िआ से अंग्रेजी : कवि गङ्गाधर मेहेर-कृत 'अर्घ्यथाली' ।
ओड़िआ से संस्कृत :  प्रणयवल्लरी, अर्घ्यथाली । *
- - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - 


* For Brief Biodata in English : http://hkmeher.blogspot.in/2012/06/brief-biodata-english-dr-harekrishna.html

* कुछ पुस्तकों की छवि के लिये, कृपया देखें : http://hkmeher.blogspot.com/2010/06/images-of-main-books-of-harekrishna.html
 (विशेष विवरण के लिये द्रष्टव्य : http://hkmeher.blogspot.com/2007/07/my-biodata.html

 = = = = = = = = = = = = =

Dr. HAREKRISHNA MEHER 
Reader and Head, Post-Graduate Department of Sanskrit
Gangadhar Meher Autonomous College (CPE),
SAMBALPUR - 768004. Orissa (India)


Mobile : + 91- 94373- 62962 
e-mail : meher.hk@gmail.com / hkmeher56@yahoo.co.in
website : http://www.hkmeher.blogspot.com
* * *

No comments: